Ash Gourd in Hindi | गुणकारी पेठा, कुष्माण्ड, रखिया, राख लौकी, सफेद कद्दू

Ash Gourd in Hindi : Ash Gourd यह एक प्रकार का कद्दू है जिसे हिंदी भाषा में पेठा, सफ़ेद पेठा, रखिया, राख लौकी, सफेद कद्दू या हरा कद्दू कहा जाता है |

संस्कृत भाषा में इसे ‘कुष्मांड’ नाम से जाना जाता है | कुष्मांड का अर्थ होता है जिसमें बिलकुल भी गर्मी नहीं है ऐसा फल | 

Ash Gourd में कैलोरीज (Calories) बहुत कम होती है और इसमें लगभग 96 प्रतिशत पाणी की मात्रा होती है | यह फाइबर (fiber-रेशा) सामग्री से समृद्ध होता है और शरीर को पोषण देने वाले विभिन्न पोषक तत्व इसमें मौजूद होते है |

Ash Gourd in Hindi

Ash Gourd in Hindi

Ash Gourd एक हरी-सलेटी रंग की सब्जी होती है, जिस पर धूल की राख जैसा पाउडर होता है | इसीलिए इसे अंग्रेजी में Ash Gourd कहा जाता है | अंग्रेजी में Ash का मतलब होता है राख और Gourd का मतलब होता है लौकी |

अंग्रेजी में Ash Gourd को Winter Melon, White Melon, Wax Gourd या Chinese Watermelon नाम से भी जाना जाता है |

Ash Gourd यह वेल वर्गीय सब्जी है जो कद्दू का ही एक प्रकार है |

इसका वैज्ञानिक नाम (Scientific Name) बेनीनकासा हिसपिडिया (Benincasa Hispidia) है |

Ash Gourd (राख लौकी) बेनीनकासा परिवार में Cucurbitaceae के अंतर्गत आता है |

Ash Gaurd Plant

गुणकारी पेठा (Ash Gourd)

यह बहुत ही गुणकारी कद्दू है जिसे आयुर्वेद में एक औषधी के रूप में भी प्रयोग में लाया जाता है | आहार में इसका समावेश करना सेहत के लिए अच्छा होता है |

Ash Gourd का सेवन करने से होने वाले लाभ :

💡 यह वजन कम करने में सहायक होता है |

💡 विटामिन सी प्रदान करता है |

💡 मानसिक विकार के रोगीयों ने इसका सेवन करना चाहिए, यह चित्त को शांत रखता है |

💡 सूजन दाह को कम करता है |

💡 अल्सर को रोकता है |

💡 इसके सेवन से पाचन शक्ति में सुधार होता है |

आयुर्वेद में पेठा को सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करनेवाला सात्विक फल (सब्जी) कहा गया है | 

आयुर्वेद के अनुसार अगर सुबह इसका रस (Juice) पिया जाये तो यह भारी मात्रा में शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है और हमारे चित्त को भी शांत रखता है |

Ash Gourd के सेवन से होनेवाले फायदे 

पेठे (Ash Gourd) से सब्जी बनाते हैं और इसे सलाद के रूप में भी उपयोग करते है | पेठे के टूकड़ों को सांभार (Curry) में भी डाला जाता हैं | गर्मी के दिनों में इसके टूकड़े करके उन्हें धुप में सुखाकर और बाद में सब्जी में खाया जाता है|

सुबह-सुबह पेठे (Ash Gourd) के रस का सेवन भी किया जाता है जो अनेक रोगों में लाभकारी होता है |

 ➡ Ash Gourd के सेवन से होनेवाले फायदे 

💡 पेशाब साफ़ होने में यह फायदेमंद है |

💡 रक्तविकार दूर करने में ये फायदेमंद है |

💡 किडनी में जब पत्थर होता है तब इसका सेवन लाभकारक होता है |

💡 ह्रदय और मस्तिष्क की ताकत बढाने में यह लाभकारी होता है |

💡 तनाव (Stress) को कम करने के लिए ये अच्छा फल है |

💡 इसके सेवन से घबराहट, चिडचिडापण, सम्भ्रम कम हो जाता है |

💡 Depression (निराशा, खिन्नता) में डॉक्टर की मुख्य दवाई के साथ इसका सेवन करना लाभ दायक होता है |

💡 हमारे शरीर के रक्त संचार प्रणाली (blood circulatory system) को ताकत देने का काम ये करता है |

💡 किसी भी बड़ी बीमारी के बाद जब ताकत बढाने की आवश्यकता रहती है तो इसका सेवन काफी फायदेमंद रहता है | 

💡 यदि कैंसर रोगी प्रतिदिन राख लौकी (Ash Gourd) के रस का सेवन करते हैं, तो शरीर में कैंसर की कोशिकाओं की संख्या कम होने में मदद मिलती है |

 💡 इसका सेवन शरीर के नाड़ियों को आराम पहुंचाता है, शरीर को ऊर्जा देता है और बुद्धि को भी तेज करता है |

Ash Gourd रस बनाने और सेवन की विधि 

Ash Gourd की सब्जी बनाई जाती है, इसे सांभार में मिलाया जाता है, इसे सलाद में भी इस्तेमाल किया जाता है | पर इसके सेवन की सबसे लोकप्रिय पद्धती है इसका रस बनाकर पीना | 

आयुर्वेद नुसार इसका रस पीना लाभकारी होता है | इसका रस बनाना काफी आसान है |

➡ इसके बीजों को पूरी तरह से निकाल ले |

➡ इसके छिलके को निकाल ले |

➡ इनके टुकड़े कर ले |

➡ इन टुकड़ों को मिक्सर के blender जार में डालकर इनको blend (मिश्रण) कर ले |

➡ Blend करने के बाद इनको साफ़ कपडे से या छलनी (strainer) से छान (strain) ले |

➡ इस रस में शहद मिला ले और बाद में सेवन कीजिये |

➡ आप इस रस में अपने पसंद अनुसार कली मिर्च पावडर, नमक या नींबू का रस भी डाल सकते है |

💡 बिना मिक्सर के रस बनाने के लिए Ash Gourd को कद्दू कस करके, इसको साफ़ कपड़े से छान कर भी इसका रस निकला जा सकता है |

💡 आयुर्वेदिक चिकित्सक नुसार आमतौर पर वयस्क आदमी 50 मीली और बच्चे 25 मीली मात्रा तक इसका सेवन कर सकते है | सेवन करने से पहले इसमें एक चम्मच शहद मिला लीजिये |

💡 इसके रस का सेवन आयुर्वेदिक चिकित्सक के मार्गदर्शन में किया जाये तो वो ज्यादा लाभकारक रहता है | क्यों की किसी भी चीज़ का अतिरिक्त सेवन सेहत के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है |

Ash Gourd रस के नुकसान

जीन लोगोंको दमे (Asthama-अस्थमा) की बीमारी हैं, जो सर्दी-जुकाम के लिए अतिसंवेदनशील हैं, जिन्हें हरदम कफ की शिकायत रहती है, ऐसे लोग अगर Ash Gourd के रस का सेवन करते हैं, तो उनको तुरंत सर्दी हो सकती है क्योंकि यह शरीर को शीतलता प्रदान करता है | 

ठण्ड के प्रती संवेदनशील लोग अगर Ash Gourd के रस का सेवन करना चाहते है तो इस रस में वह शहद या काली मिर्च डालकर सेवन कर सकते हैं। यह कुछ हद तक शीतलन प्रभाव को बेअसर कर देगा |

Ash Gourd का ज्यादा सेवन करने से :

💡 पेठा (Ash Gourd) में बहुत अधिक फाइबर (fiber-रेशा) होता है | ज्यादा dietary fiber के  सेवन से कब्ज (constipation) हो सकता है |

💡 अस्थमा, सरदी-खांसी के रोगी को Ash Gourd की सब्जी नहीं खानी चाहिए |

💡 ज्यादा मात्रा में सेवन करने पर यह Blood Sugar Level (रक्त शर्करा स्तर) कम करता है। इसलिए इसके अधिकतम सेवन से बचे |

विश्व प्रसिद्ध मिठाई आगरा का पेठा 

💡 Ash Gourd in Hindi 💡 

आगरा का पेठा

आगरा की मिठाई पेठा देश विदेशों में काफी मशहूर है | इसे Ash Gourd मतलब पेठे से ही बनाया जाता है | जो काफी स्वादिष्ट होती है | 

अगर आप इस आगरा के स्वादिष्ट मिठाई पेठा को घर पर बना चाहते है तो निचे दीये गए रेसिपी लिंक पर क्लिक click कीजिए |


  ➡ आगरा की पेठा बनाने की सबसे आसान रेसिपी



Ash Gourd Vitamins and Minerals

राख लौकी (Ash Gourd) को सात्विक तथा गुणकारी फल (सब्जी) कहां जाता है कारण इसमें पाए जाने वाले विटामिन्स और मिनरल (खनिज)|

निचे दिए गए तख्ते से आपको इसमें पाए जाने वाले विटामिन्स और मिनरल (खनिज) का पता चल जायेगा | 

💡 Ash Gourd in Hindi 💡 

Ash Gourd content per 100 gm
Calories: 14 Kcal
Carbohydrates: 3.39 gram
Protein: 0.62 grams
Fat: 0.02 grams
Dietary Fiber: 0.5 grams
Cholesterol: 0.00 gram
List of Vitamins and Minerals
Thiamine
Vita B5
Vita C
Vita B6
Phosphorus
Zinc
Niacin
Iron
Magnesium
Manganese

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here