Essay on Coronavirus in Hindi | कोरोना वायरस पर निबंध

Advertisement

Essay on Coronavirus in Hindi: पूरे विश्व को साल 2020 ने जैसे रोक लिया और लोगों को अपने घरों में कैद कर लिया | इसका कारण था कोरोना नामक संक्रामक बीमारी | इस बीमारी ने विश्व के सारे देशों को डरा दिया और लोगों को अपनी जीवन शैली बदलने पे मजबूर कर दिया | इस बीमारी से भारत देश भी अछूता नहीं रहा |

भारत में घनी आबादी होने के कारण यह कोरोनावायरस  (COVID-19) संक्रामक बीमारी तेज़ी से फैलने का डर था और यह बीमारी चिंता का विषय बन गयी थी |

इसी वजहसे देशमें 23 मार्च 2020 को, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी के अधीन भारत सरकार ने 21 दिनों के लिए देशव्यापी (lockdown) तालाबंदी का आदेश दे दिया था |

लेकिन यह देशव्यापी (lockdown) तालाबंदी आज साल 2021 में भी चालू है |

Essay on Coronavirus in Hindi

कोरोनावायरस (COVID-19) यह विश्व के लिए एक नयी बीमारी थी जिसके चलते इस पर कोइ दवाई न थी और नही  इसके लक्षणों के बारे में कुछ ठीक से पता था | इसलिए पुरे विश्व के साथ-साथ भारत देश ने भी इस  संक्रामक बीमारी पर अंकुश लगाने के लिए (lockdown) तालाबंदी के आदेश दे दिये |

इस संक्रामक बीमारी से बचने के लिए देश में हवाई जहाज से लेकर अन्य सारी परिवहन सेवाएँ बंद कर दी गयी | सरकारी और गैर-सरकारी  सारे दफ्तर, विद्यालय और अन्य सार्वजनीक उपक्रम अनिश्चित काल तक बंद कर दिए गये | उद्देश यह था की यह संक्रामक बीमारी लोगों में एक दूसरों द्वारा इतनी न फैले के इसपर काबू पाना मुश्कील हो जाये |)

हर व्यक्ती के लिए मास्क पहनना जरूरी कर दिया | जरूरी कामों के बैगैर किसीको भी घरों से बाहर न निकलने की हिदायते दी गयी | सारे सरकारी और गैर-सरकारी अस्पताल, चिकित्सा सेवक, डॉक्टर और कर्मचारियोंको इस संक्रामक बीमारीसे निपटने के लिए तैयार रहने के लिए सूचनायें दी गयी |

केंद्र सरकार ने इस आने वाले संकट को भांप लिया था और अन्य देशों में इस कोरोना वायरस (COVID-19) बीमारी से उत्पन्न हुए दुष्परिणामो को समझ लिया था |

भारत मे कोरोना वायरस

Essay on Coronavirus in Hindi

केंद्र सरकार का आकलन सही साबित हुआ और इस कोरोना वायरस (COVID-19) बीमारीने देश में फैलना शुरू कर दिया | इस बीमारी ने एक करोड़ से भी ज्यादा भारतियों को ग्रस्त कर दिया पर हमारे चिकित्सा सेवक, डॉक्टर और कर्मचारियोंने अपने अथक सेवा भाव और मेहनत से अपने प्राणों की चिंता न करते हुए इनको ठीक कर दिया |

इस कोरोना वायरस (COVID-19) बीमारीसे पूरे दुनिया के देशो में अब तक 25 लाख से भी ज्यादा लोगों की मृत्यु हो गयी है | भारत देश में अबतक 1.5 (डेढ़) लाख से भी ज्यादा लोगों की मृत्यु इस बीमारी से हो गयी है | इससे आप समझ सकते है अगर समय रहते इस बीमारी का इलाज न किया जाये तो यह जानलेवा साबित हो सकती  है |

अगर समय पर इलाज किया जाये तो यह कोरोना वायरस (COVID-19) बीमारी सर्दी-जुकाम की तरह आसानी से ठीक हो सकती है | सरकार ने विशेष रूप से इस बीमारी के लिए हर जगह चिकिस्ता सुविधा केंद्र खोल रखे है | अगर कोइ संभावित व्यक्ती समय रहते यहाँ पर अपनी जाँच करवा ले तो वो आसानी से ठीक हो सकता है | सरकार बार बार इस बारे में अपनी देश के जनता से अपील भी करती रहती है |

कोरोना वायरस (COVID-19) साल 2021 में

Essay on Coronavirus in Hindi

Advertisement

आज साल 2021 में यह बीमारी कुछ हद तक नियंत्रण में दिख रही है इसका प्रमुख कारण है हमारे अस्पताल के डॉक्टर, चिकिस्ता सेवक, अत्यावश्यक सेवा के कर्मचारी और पुलिस | इन्होने दिन रात अपने जान की परवाह किये बगैर देश के जनता को इस कोरोना नामक संक्रामक बीमारी से बचने का प्रयन्त किया है और अपने इस प्रयास में ओ कामयाब भी रहे है |

देश की जनता को कोरोना वायरस (COVID-19) बीमारी से बचाने के प्रयत्न में बहुत से डॉक्टर, चिकिस्ता सेवक, अत्यावश्यक सेवा के कर्मचारी और पुलिस को कोरोना वायरस का संक्रमण होनेसे उनकी मृत्यु भी हो गयी है | फिर भी उन्होंने अपना कार्य करना नहीं छोडा|

Essay on Coronavirus in Hindi

उनकी देश और देशवासियों के प्रती समर्पण की भावना को सराहने के लिए और कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए देश के प्रधानमंत्री श्री. नरेन्द्र मोदीजी और सारे देशवासियों ने इन कोरोना योद्धाओंको अभिवादन किया और उनके कार्य को सराहा |

भले ही यह कोरोना वायरस (COVID-19) बीमारी आज साल 2021 में हमें कम होते हुए प्रतीत  हो रही है पर हमें यह याद रखना होगा यह इक संक्रामक बीमारी है और यह कभी भी फैल सकती है |

डॉक्टरों का कहना है अगले 4-5 साल तक यह बीमारी मनुष्य के साथ ही रहने वाली है इसीलिए हमें सतर्क रहने की जरूरत है और इस बीमारी से बचने के लिए हर एक नियमों का सक्तिसे पालन करना है |

कोरोनवायरस वायरस क्या है?

Essay on Coronavirus in Hindi

कोरोना वायरस (COVID-19) एक संक्रामक बीमारी है जो एक नए खोजे गए कोरोनावायरस के कारण होती  है|

कोरोना वायरस (COVID-19) से संक्रमित अधिकांश लोग हल्के से मध्यम श्वसन बीमारी का अनुभव करते है और विशेष उपचार की आवश्यकता के बिना ठीक हो जाते है । मतलब डॉक्टरों की दवाईयों से ही बहुत से कोरोना मरीज आसानीसे ठीक हो जाते है इन्हें किसी विशेष उपचार की जरूरत नहीं होती है|

वृद्ध लोगों और हृदय रोग, मधुमेह, पुरानी सांस की बीमारी और कैंसर जैसी व्याधियोंसे पीड़ित लोग अगर इस कोरोनवायरस बीमारीसे संक्रमीत हो जाते है तो इनमे यह बीमारी गंभीर रूप धारण कर सकती है | ऐसे व्याधिग्रस्त लोगों की इस कोरोना वायरस (Coronavirus) बीमारी से मृत्यु होनी की ज्यादा संभावना होती है| 

कोरोना (COVID-19) वायरस मुख्य रूप से लार की बूंदों या नाक से तब फैलता है जब किसी संक्रमित व्यक्ति को खांसी या छींक आती है | इसलिए यह महत्वपूर्ण है की खांसते या छींकते समय मूह पर रूमाल रखना चाहिए|

कोरोना (COVID-19) वायरस संक्रमण से बचने के लिए हर एक व्यक्तीने मास्क (Mask) पहनना जरूरी है | अपने हाथों को बार बार धोना चाहिए | अपने चेहरे को या मास्क को बार बार छुना नहीं चाहिए |

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)

Essay on Coronavirus in Hindi

पूरी दुनिया के स्वास्थ्य प्रणाली क्षेत्र में काम करने वाली आंतरराष्ट्रीय संस्था  विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) ने कोरोना (COVID-19) वायरस के बारे में कुछ तथ्य बताएं है जिनकी जानकारी सबको होना बहुत जरूरी है –

 ➡ व्यायाम करते समय लोगों को मास्क नहीं पहनना चाहिए क्यों की मास्क आराम से सांस लेने की क्षमता को कम कर सकता है | पसीना मास्क को गीला कर सकता है जिससे सांस लेने में मुश्किल होती है और सूक्ष्मजीवों के विकास को बढ़ावा मिलता है।

➡ पाणी COVID-19 वायरस को संचारित नहीं करता है | इसीलीए पाणी से कोरोनावायरस बीमारी होने की कोइ संभावना नहीं है |यह वायरस तैरते समय पानी से नहीं फैलता है |

 ➡ कोरोनावायरस रोग (COVID-19) एक वायरस के कारण होता है, बैक्टीरिया द्वारा नहीं | यह वायरस जो COVID-19 का कारण बनता है, इसे Coronaviridae (कोरोनाविरिडे) कहा जाता है |

 ➡ कोरोना वायरस (Coronavirus) बीमारी से संक्रमीत होने वाले ज्यादातर लोग इस बीमारी से उबर जाते हैं | अधिकांश लोगों में हल्के या मध्यम लक्षण होते हैं जो वैद्यकीय सुविधा पाने के बाद ठीक हो जाते है | यदि आपको खांसी, बुखार और सांस लेने में कठिनाई होती है, तो जल्दी वैद्यकीय चिकित्सा की तलाश करें |

 ➡ शराब पीने से आपको COVID-19 से सुरक्षा नहीं मिलती है | उल्टा शराब पीना सेहत के लिए ख़राब हो होता है |

 ➡ अपने सूप या अन्य भोजन में काली मिर्च का उपयोग करने से आप ना तो कोरोना वायरस (Coronavirus) बीमारी को रोक सकते है, नाही ठीक कर सकते है | सिर्फ वैद्यकीय उपचारों से ही आप ठीक हो सकते है |

 ➡ कोरोना वायरस (Coronavirus) बीमारी घरेलु मक्खियों (Fly) से फैलती नहीं है |

 ➡  मच्छर के काटने से कोरोना वायरस (COVID-19) बीमारी नहीं फैलती | कोरोनावायरस श्वसनतंत्र पर आक्रमण करनेवाला वायरस है जो मुख्य रूप से जब एक संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है, तो उसकी बूंदों के माध्यम से यह फैलता है |

 ➡ लहसुन खाने से कोरोना वायरस (COVID-19) बीमारी की रोकथाम नहीं होती है |

➡ सभी उम्र के लोग COVID -19 वायरस से संक्रमित हो सकते हैं | छोटे बच्चों से लेकर वृद्ध आदमी तक इस बीमारी के शिकार हो सकते है | इसीलिये विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation)  सभी उम्र के लोगों को सलाह देता है कि वे खुद को वायरस से बचाने के लिए हाथ की स्वच्छतासे लेकर मास्क पहनने तक सारे नियमो का पालन करे और रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ने वाले आहार का सेवन करे | 

 ➡ गर्म पाणीसे स्नान करने से COVID -19 को रोका नहीं जा सकता है |

 ➡ न तो ठंड का मौसम और बर्फ COVID-19 वायरस को मार सकते और नाही अधिक धुप या तापमान| चाहे मौसम कितना भी तेज गर्म हो या ठंडा सारे प्रदेशो में कोरोना वायरस (Coronavirus) बीमारी के मामले सामने आए हैं।

 ➡ कोरोना वायरस (COVID-19) के खिलाफ खुद को बचाने का सबसे अच्छा तरीका दूसरों से कम से कम 1 मीटर की भौतिक दूरी बनाए रखना और अक्सर अपने हाथों की सफाई करना है। ऐसा करने से आप अपने हाथों पर लगे वायरस को खत्म कर सकते हैं और संक्रमण से बच सकते हैं |

अगर आप अपने हाथों को बिना धोये अपनी आंख, मुंह और नाक को या मास्क को बार-बार छूते है तो कोरोना वायरस (COVID-19) का संक्रमण होने की संभावना बनी रहती है |

भारत की स्वदेशी कोरोना वायरस (COVID-19) वैक्सीन

Essay on Coronavirus in Hindi

सारे देशों के वेज्ञानीक कोरोना वायरस (COVID-19) बीमारी को प्रतिबंधित कर सके ऐसी वैक्सीन (टीका) तयार करने के लिए साल 2020 से प्रयत्न कर रहे थे इसमें हमारे देश के डॉक्टर्स भी शामिल है |

हमारे देश के प्रतिभावान वैज्ञानीक और डॉक्टर्स कोरोना वायरस (COVID-19) बीमारी को प्रतिबंधित कर सके ऐसी स्वदेशी वैक्सीन साल 2021 में बनाने में सफल हो गए है | हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री. नरेन्द्र मोदीजी ने घोषणा की है यह वैक्सीन (टीका) सारे देश बांधवों को दी जायेगी |

कोरोना वैक्सीन (टीका) का निर्माण हो गया है इसका मतलब यह नहीं है की दुनिया से कोरोना वायरस (COVID-19) बीमारी अब ख़त्म हो जायेगी | यह लडाई लम्बी है, डॉक्टरों का कहना है अगले 4-5 साल तक यह बीमारी मनुष्य के साथ ही रहने वाली है |

हमें सारे नियमोंका पालन करते हुए इस कोरोना वायरस (COVID-19)संक्रामक बीमारी से संघर्ष करना है, इसे हराना है और हमारे देश को एक स्वस्थ और बलशाली देश बनाना है |


😯 Read here about corona virus (Covid19)

 ➡ विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation)


 

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here