Mobile ka aviskar kisne kiya? कब, कहा, और कैसे?

Mobile ka aviskar kisne kiya: आजकी दुनिया में सबसे ज्यादा कोई Product मशहूर है तो वो मोबाइल फ़ोन है| पर क्या आप जानते है mobile ka aviskar kisne kiya? पूरी दुनियामें लोगो के लिए मोबाइल फ़ोन अभी शौक नहीं रहा यह जरूरतसा बन गया है|

अमीर हो या गरीब, बच्चा हो या बूढा, बच्ची हो या औरत हर कोई मोबाइल फ़ोन चाहता है| मोबाइल फ़ोन के बीना हमारी जिन्दगी रूकसी जाती है| मोबाइल फ़ोन अब हमारी जरूरत नही रही वो हमारे शरीर का एक अंग(Part) बन गया है, जिसके बगैर जीना आज की दुनिया में कोई सोच भी नही सकता|

मोबाइल फ़ोन एक चलती फिरती दुनियसा बन गया है|

  1. पर क्या आप जानते है दुनिया का सबसे पहला mobile ka aviskar kisne kiya?
  2. किसे मोबाइल फ़ोन का बाप (Father of Cellphone) कहा जाता है?
  3. कोनसे साल में मोबाइल फ़ोन का अविष्कार (Invention) हुआ है?
  4. दुनिया की सबसे पहली मोबाइल कॉल किसने और कब की थी?

आपके इन सारे सवालो के जवाब आपको इस लेख में मिल जायेगे| 

Mobile ka aviskar kisne kiya?     

दुनिया का सबसे पहला मोबाइल फ़ोन बनाने का श्रेय जाता है अमेरिका के मार्टिन कूपर(Martin Cooper) को|

26 दिसंबर1928 को शिकागो के ‘इल्लिनोज’ शहर में जन्मे ‘मार्टिन कूपर’ बचपनसे ही विज्ञान में रुची रखते थे| उनके उम्र के बच्चे जब खलेने में व्यस्त रहा करते थे उस वक्त मार्टिन कूपर सोडा वाटर बोतल को फोडके उसके ग्लास से Magnifying ग्लास बनाना इस तरह के काम में मग्न रहते थे|

बचपन में ही उन्होंने सोच लिया था बड़ा होके इंजिनियर बनेंगे| इंजीनियरिंग की शीक्षा पूरी करके वो मोटोरोला(Motorola) कंपनी में काम पे लग गए|

उस वक्त 1970 में अमेरिका में मोबाइल टेलीफोनी (Mobile Telephone) की बात चल रही थी, उसे कार फ़ोन भी कहा जाता था|

टैक्सी, पुलिस कार, फायर ब्रिगेड इनमे ही ऐसे टेलीफोन की सुविधा देने की बात हो रही थी और मार्टिन कूपर इसके खिलाफ थे| उनका कहना था की मोबाइल फ़ोन को एक जगह ट्रैप (कैद) करके रखना अच्छा नहीं है| हमे ऐसे मोबाइल फ़ोन का निर्माण करना चाहिए जिसे हर कोई और कहि भी इस्तेमाल कर सके|

 

दुनिया के पहले मोबाइल फ़ोन का वजन और बैटरी life कितनी थी?     

मार्टिन कूपर ने engineers अपनी एक टीम बनाई और 1973 में दुनिया का पहला मोबाइल फ़ोन बनाया|

इस मोबाइल Technology को लगभग 10 साल बाद दुनिया ने इस्तेमाल करना शुरू कर दीया| पूर दस साल लगे इस मोबाइल technology को Commercial तौरपर चालू होने के लिए|

World-first Mobile Phone

आप यकीन कर सकेंगे दूनिया में बने इस पहले मोबाइल phone का वजन 1 किलोग्राम से भी ज्यादा था और इसकी Battery Life थी सिर्फ 20 मिनट|

1 किलोग्राम वजन और 20 मिनट battery life वाला यह मोबाइल फ़ोन दुनिया का सबसे पहला मोबाइल फ़ोन था|

 

दुनिया का सबसे पहला मोबाइल कॉल- Mobile ka aviskar kisne kiya?   

दुनिया के इस पहले मोबाइल को मार्टिन कूपर अमेरिका के Politician, Businessman, पत्रकार और प्रसीध्द लोगो को दीखाया करते थे| जिससे इस मोबाइल फ़ोन को प्रसिद्धी मिले|

1973 की एक पत्रकार परिषद् में इस दुनिया के पहले मोबाइल फ़ोन का डेमो (Demo) दिखाते वक्त मार्टिन कूपर ने दुनिया के इस पहले मोबाइल फ़ोन से अपने मित्र को दुनिया की पहली मोबाइल कॉल की और एक नया इतिहास रच दिया|

1973 में बने इस मोबाइल technology ने दुनिया में क्रांती ला दी और आज 21 सेंचुरी में लगभग 10 billion से भी ज्यादा लोग मोबाइल फ़ोन का इस्तेमाल करते है|

 

मोबाइल के बारे में अविश्वसनीय तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे 

mobile ka aviskar kisne kiya
Nokia 1100

Nokia 1100 यह दुनिया में अब तक का सबसे ज्यादा बेचा गया मोबाइल phone है| अब तक इसके 250 million (1 million=दस लाख) मोबाइल बेचे गए है|

दुनिया भर में लोगो की जितनी आबादी है उससे ज्यादा मोबाइल phone हमारे धरती पर मौजूद है|

Study में पाया गया है, शौचालय में जितने कीटाणु (Bacteria) मौजूद होते है उससे 20 से 30 गुना ज्यादा कीटाणु मोबाइल पर होते है| इसलिए मोबाइल को हमेशा कपडे से साफ़ करते रहना चाहिए|

दिनभर में हम औसतन 150 बार हमारे मोबाइल को चेक (check) करते है| मतलब हर 6 से 10 मिनट में एक बार हम मोबाइल को चेक करते है|

जैसे सिगारेट, दारु इत्यादि चिजोकी लत (addiction) होती है वैसे ही मोबाइल का भी addiction होता है जिसे Nomophobia कहा जाता है|

Ericsson GS88 “Penelope” model

Ericsson GS88 “Penelope” model का phone 1997 को launch हुवा था| यह दुनिया का ऐसा पहला phone था जिसे ‘SMARTPHONE’ कहा गया था|

 

बिना मोबाइल Phone के कॉल ?         

मार्टिन कूपर मानते है की अभी भी हम डिजिटल क्रांती(Digital Revolution) से कोसो दूर है| अभी तो सिर्फ इसकी शुरुआत हुई है|  

10 पेटेंट अपने नाम पर रखने वाले मार्टिन कूपर का मानना है की भविष्य में हमे मोबाइल phone लेके घुमने की जरूरत नहीं होगी| हमारे कान के पीछे या बॉडी पर हमे इक चीप चिपकानी होगी जिसके द्वारा हम सिर्फ आवाज से ही Voice Calling कर सकते हैं|

 

बीमार होने से पहले ही पता चल जायेगी बीमारी       

आज भी नए नए शोध (Discovery) में व्यस्त रहने वाले मार्टिन कूपर का कहना है की वो ऐसे चिप पर काम कर रहे है जिसे शरीर पर चिपकाने के बाद भविष्य में होने वाली बीमारी के बारे में पहले ही पता चल जायेगा| जिससे डॉक्टर आपको बीमार होने से पहले ही उस बीमारी से बचा लेंगे| हालांकी यह technology अभीतक पहले ही चरण में हे, पर भविष्य में इस्तमाल के लिए यह तैयार हो जायेगी|

मार्टिन कूपर जैसे बुद्धिमान शोधकर्ता (Scientist) अपना कीमती समय देकर नए नए शोधो का अविष्कार करते रहते है जिसकी वजहसे मानवजाती को अपना जीवन जीना सहज हो जाता है| हमे मार्टिन कूपर जैसे शोधकरताओ पर हमेशा नाज़ होना चाहिए|

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here