Ranveer Singh Biography | बड़ा पेट, आखोके नीचे काले धब्बे में कैसे हीरो बनुगा

बॉलीवुड नगरी में सपनो का सिलसिला कभी रुकता नही है| पुराने सितारे जैसे ही ढलान की कगार पर होते हैं नए सितारे अपना तेज़ फ़ैलाने के लिए तैयार हो जाते है| यह ऐसी ही एक उगते सितारे की कहानी है जो अपने सपनो के पीछे कुछ इस तेजी से भागा की दूर दिखने वाले सपने भी करीब आगये| इस उगते सितारे का नाम है Ranveer Singh, जिसे बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री का अगला सुपरस्टार माना जाता है|

Ranveer Singh के बचपन का सपना 

महाराष्ट्र के ‘मुंबई’ में 6 जुलाई 1985 में सिंधी परिवार में जन्मे Ranveer Singh का पूरा नाम ‘रणवीर सिंह भवनानी‘ हैं|

Ranveer Singh Mother & Father

उनके माताजी का नाम ‘अंजू’ और पिताजी का पूरा नाम ‘जगजीत सिंह भवनानी’ है|

जगजीत सिंह के दादाजी, सुन्दर सिंह भवनानी हिंदुस्तान और पाकिस्तान के Partition के दौरान कराची सिंध से मुंबई आ गए थे| सिंध प्रांत अभी पाकिस्तान में है|

Ranveer Singh Sister

Ranveer Singh की बड़ी बेहेन का नाम ‘रितिका भवनानी’ हैं| रणवीर अपने मा और बेहेन के प्रती काफी स्नेहशील है| प्यार से वो अपनी मा को Bigg Momma (बड़ी मा) और बेहेन को छोटी मा पुकारते है|

मुंबई के बांद्रा में रहने वाले रणवीर को बचपन से ही फिल्मो का बड़ा शौक था| जब उनके उम्र के 8-9 साल के बच्चे बाहर खेलने जाते थे तब वो घर में बैठ के फिल्मे देखा करते थे| संगीत सुना करते थे, या फिल्मी magzine पढ़ा करते थे|

रणवीर बचपन से ही बड़े फ़िल्मी बच्चे थे और उनका सपना हिंदी फिल्म का हीरो, शेनशाह, अजूबा, मिस्टर इंडिया बनना था|

हिंदी फिल्म में हीरो बनने का सपना उनकी दादीजी ने उन्हें दीखाया था| उनकी दादीजी अमिताभ बच्चन की बड़ी प्रशंसक थी| रणवीर के साथ अमिताभजी की फिल्मे देखते वक्त वो उनसे कहती थे “बेटा तुम्हे भी बड़ा हो के एक दिन ऐसेही हिंदी फिल्म का हीरो बनना है|

19 साल की उम्र में अमेरिका गए 

सैंट Andrew school में Ranveer Singh ने पढाई के साथ साथ एक्टिंग, डांसिंग और sports में भी रूचि दिखाई| School की पढाई ख़त्म करने के बाद H. R. कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स और इकोनॉमिक्स में एडमिशन ले लिया|

इन्ही दिनों में उनको प्रोडक्ट के लिए की जाने वाली कॉपीराईटिंग में रूचि उत्पन्न हो गयी| पिताजी के पहचान वाले एडवरटाइजिंग एजेंसी में उन्होंने copy writing की इंटर्नशिप कर ली|

Ranveer Singh के माताजी और पिताजी की बहुत इच्छा थी की रणबीर पढने अमेरिका जाये| जिससे उनको दुनिया के बारे में समज हो| महज 19 साल की उम्र में ही रणवीर एडवरटाइजिंग की पढाई करने के लिए अमेरिका चले गए|

एडवरटाइजिंग की पढाई के साथ साथ अमेरिका में उन्होंने एक्टिंग क्लास में भी एडमिशन ले लिया था| अमेरिका में रणवीर 4 साल रहे|

बड़ा पेट, आखोके नीचे काले धब्बे में कैसे हीरो बनुगा

अमेरिका के इंडिआना यूनिवर्सिटी से बैचलर ऑफ़ आर्ट्स की डिग्री लेकर भारत लौट आये रणवीर| इसी वक्त हिंदी फिल्मोमे हीरो बनने का उनका सपना फिरसे जाग उठा| हिंदी फिल्मो में बिना पहचान के काम मिलना कितना मुश्किल है यह रणवीर जानते थे|

Ranveer Singh अपने मित्र शाद अली के यहा असिस्टेंट डायरेक्टर बन गए| शाद अली ने अमिताभ बच्चनजी को लेकर ‘झूम बराबर’ यह फिल्म बनाई थी| रणवीर का ख्याल था की असिस्टेंट डायरेक्टर बनने के बाद उनकी फिल्म इंडस्ट्री में पहचान हो जायेगी और उनके हीरो बनने के सपने में मदद होगी|

डेढ साल तक असिस्टेंट डायरेक्टर का कडा मेहनत वाला काम करने के बाद उन्होंने अपने आपको एक अलग ही रूप में पाया| आखोके नीचे काले दाग और बढा हुआ पेट| रणवीर समझ गए ऐसे रूप में तो वो कभी भी हीरो नहीं बन सकते| उन्होंने असिस्टेंट डायरेक्टर का जॉब छोड़ने का फैसला कर लिया|

  • इन्हें भी देखें ( See also this)
पृथ्वी थिएटर में झाडू मारते थे रणवीर

काम छोड़ने के बाद Ranveer Singh ने अपना पूरा ध्यान एक्टिंग के तरफ दे दीया| असिस्टेंट डायरेक्टर बनने के पहले वो टीवी सीरियल और नाटको में काम कीया करते थे| काम के वजहसे उन्होंने दो साल एक्टिंग ही छोड़ दी थी|

इसलिए Ranveer Singh ने थिएटर के जो 6 कोर्स थे वो कर डाले| दो-तीन नाटको में भी काम किया| वेस्टर्न एक्टिंग कोर्स करने के बाद देसी एक्टिंग कोर्स कर डाला| रणवीर अब सोच रहे थे कोई थिएटर की एक्टिंग हो जाये| उन्होंने पृथ्वी थिएटर की नाटको में काम करने का फैसला किया|

पृथ्वी थिएटर पर रणवीर की किसीसे पहचान नही थी| पृथ्वी थिएटर में जहा पर नाटको की Rehersal होती है वहापर रणवीर अपने आप सुबह 8 बजे जाके, कमरे में झाडू मारके एक्टर आने से पहले Room को साफ़ करते थे| एक्टर लोगोको चाय, समोसे लाके देना, उनकी मदद करना ऐसे काम वो किया करते थे|

रात को सब एक्टर चले जाने के बाद रणवीर कमरे में झाडू लगाकर लाइट, fan बंद कर देते थे| रणवीर पृथ्वी थिएटर में नोकर जैसा ही काम किया करते थे| पृथ्वी थिएटर के 2-4 नाटको में उन्होंने छोटे रोले भी कर लिए थे| पृथ्वी थिएटर में उन्होंने 1 साल 8 महीने तक कम किया|

बेटे का सपना, बापने घर और गाडी बेच दी

नाटको और सीरियल में काम करते करते रणवीर फिल्मोके लिए ऑडिशन भी दे रहे थे| ऐसे में उनको चार मिड budget फिल्म में हीरो का रोल मिल गया था| पर रणवीर का उन फिल्मोमें काम करने को मन नही किया| रणवीर ने इन फिल्मो में काम करनेसे मना कर दीया|

Ranveer Singh को पता था एक नये लड़के के लिए जिसका कोई फ़िल्मी background नही उसके लिये ऐसे फिल्मो का ऑफर ठुकरा देना समजदारी की बात नही है| हो सकता है इससे फ़िल्मी करियर ही ख़राब हो जाये|

उनके पिताजीने रणवीर को पढाई के लिए अमेरिका भेजने से लेकर उनके हीरो बनने के सपनोको साकार करने के लिए अपना रहता घर और कार तक बेच दी थी| रणवीर ने मन बना लिया और अच्छे फिल्म offer का इंतज़ार करने का मन बना लिया|

‘बैंड बाजा बारात’

एक शाम को रणवीर की दोस्त शानू ने उनको फ़ोन करके बताया की आदित्य चोप्रा (Yrf head) नयी फिल्म बनाने जा रहे है| उनको नये लडके की तलाश है|

रणवीर ने पहला ऑडिशन पास कर लिया| पर बाकी के ऑडिशन में वो ख़राब काम करते जा रहे थे| यह देख खुद आदित्य चोप्रा रणवीर से मिलने आ गए और उनका होसला बढाया| रणवीर ने फाइनल ऑडिशन पास कर लिया|

Ranveer Singh फिल्म के हीरो के रूप में चुन लिए गए| इस फिल्म का नाम था ‘बैंड बजा बारात’| यह फिल्म सुपरहिट हो गयी और रणवीर बॉलीवुड के हीरो बन गए| इसके बाद उन्होंने कई सफल फिल्मो में काम किया|

संजय भनसाली की सुपरहिट फिल्म ‘बाजीराव’ में किये अप्रतीम अभिनय के बाद उनको बॉलीवुड का अगला सुपरस्टार माना जा रहा है| दिग्दर्शक (Director) sanjay भंसाली के साथ Ranveer Singh ने राम-लीला,पदमावत जैसी सुपरहिट फिल्मो में भी काम किया है|

आठ साल के उम्र में हिंदी फिल्मो का हीरो बनने का सपना देखने वाले लडके ने अपनी अपार मेहनत और होसले से सपनोको हकीकत में बदल दीया|

Ranveer Singh की शादी

14 Nov, 2018 को Ranveer Singh ने मशहूर अभिनेत्री दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) से इटली में शादी करली| 

BOLLYWOOD का सबसे बड़ा STYLISH MEN

List of Ranveer Singh Movies:

  1. Band Baaja Baaraat  (2010)
  2. Ladies v/s Ricky Behal  (2011)
  3. Lootera  (2013)
  4. Goliyon Ki Rass Leela Ram-Leela  (2013)
  5. Kill Dil  (2014)
  6. Goonday  (2014)
  7. Dil Dhadkne do (2015)
  8. Bajirao Mastani  (2015)
  9. Befikre  (2016)
  10. Padmavat  (2018)
  11. Simbaa  (2018)
  12. Gully Boy  (2019)

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here