Why Apple fail in India | Apple भारत में सबसे कम बिकनेवाला मोबाइल फ़ोन

Advertisement

भारत जल्द ही दुनिया का सबसे ज्यादा मोबाइल फ़ोन इस्तेमाल करनेवाला देश बनने वाला है| दुनिया के  नंबर 2 आबादी वाले इस देश में हर कोई मोबाइल कंपनी अपना फ़ोन बेचना चाहती है| यहापर सस्ते महेंगे (Apple) सभी तरह के फ़ोन बीक जाते है|

दुनिया में भारत की गणना सबसे तेज आर्थीक(economic) उन्नती करने वाले देशो में होती है| इसीलिये दुनिया की सारी मोबाइल कंपनीया भारत में अपने मोबाइल फ़ोन बेचने की कोशिश करती है| पर यहापर वही कंपनिया सफल हुई जिन्होंने भारतीय ग्राहकों की जरूरत पहचानी| क्योंकी आख़िरकार बाजार में ग्राहक ही राजा होता है और वो किसी भी कंपनी को सफल या असफल बनाने की ताकत रखता है| 

भारतीय कंपनीया मोबाइल फ़ोन नही बनाती

कोई भी भारतीय कंपनी मोबाइल फ़ोन नही बनाती इसीलिये दुनियाभर की मोबाइल कंपनीया यहापर अपना मोबाइल फ़ोन बेचती है|

इस लेख में हम देखेंगे कौनसी मोबाइल कंपनीया यहापर अबतक अपने फ़ोन बेचने में सफल रही और कौनसी असफल| 2019 तक भारतीय बाजार में कौनसी कंपनी का कितने प्रतिशत(%) हिस्सा है| जो कंपनीया सफल या असफल हुई वो कौनसे कारण से हुई|

Apple भारत में सबसे कम बिकनेवाला मोबाइल फ़ोन

दुनिया भर को अपने मोबाइल phone का दीवाना बनाने वाली Apple कंपनी भारत में अपना जादू चलाने में पूरी तरह से असफल रही| Apple ने 2013 से भारत में अपने मोबाइल फ़ोन को बेचना चालू किया| पर आज 2019 तक यह भारतीय मार्केट में सिर्फ 2.9% हिस्सा बनाने में ही कामयाब रही|

2019 के पहले क्वार्टर(Jan to March) में दुसरे फ़ोन कंपनी के मुकाबले में Apple सिर्फ 1 प्रतिशत (%) ही फ़ोन भारत में बेच पाई है| इसकी प्रमुख वजह है Apple फ़ोन का महंगा होना| और दुसरी प्रमुख वजह है चीन की मोबाइल कंपनिया|

चीन की मोबाइल कंपनियोंने भारतीय बाजार में इतने सस्ते और अच्छे मोबाइल फ़ोन बेचना चालू कर दिया है की Apple के phone यहापर लोगो को Luxurious आइटम लगने लगे है|

जानकारोंका (experts) दावा है की दुनिया का सबसे ज्यादा मोबाइल इस्तेमाल करने वाला देश बनने जा रहा भारत अब पूरी तरहसे Android Nation बन गया है और Apple फ़ोन यहापर सिर्फ दिखावेकी(Show Piece) वस्तु बन गया है|

Oppo और Vivo ने भी Apple को हरा दिया

2019 में चीनी मोबाइल कंपनी Oppo का 10 प्रतिशत(%) और Vivo का 12 प्रतिशत हिस्सा है भारतीय मोबाइल बाजार में| इस सफलता का कारण है 2016 में Oppo और Vivo ने भारत में ज्यादा Outlets (Shops) खोले| अच्छे Specification वाले phone लॉन्च किये| भारत के ग्रामीण इलाकोतक इन्होने अपने phone पहुंचा दिए|

भारतीय दुकानदारो को Oppo और Vivo ने अच्छा commission दे दिया जिसके चलते उन्होंने भी इन phone को खूब बेचा| अपनी अच्छी मार्केटिंग policy की वजहसे Oppo और Vivo भारतीय phone बाजार में अपनी जगह बनाने में सफल रहे है|

Xiaomi  ने बदला भारतीय मोबाइल फ़ोन का बाजार

जैसे ही Xiaomi ने भारतीय फ़ोन बाजार में entry की उसने दुसरे कंपनीयोके मोबाइल फ़ोन की छुट्टी कर दी| Xiaomi ऐसी पहली चीनी कंपनी है जिसने  भारतीय बाजार में सस्ते और बेहतरीन specification वाले फ़ोन उतारे जो अबतक सिर्फ Samsung, Sony, LG, HTC जैसी कंपनिया ही महेंगे दामो में निकालती थी|

भारत में MI फ़ोन ने धूम मचा दी और बेहतरीन specification वाले phone आम आदमी तक पहुचाने में कामयाब रही| Samsung जैसी बड़ी कंपनी को टक्कर देके उसने 2018 में भारतीय फ़ोन बाजार का 28 प्रतिशत(%) हिस्सा काबीज कर लिया है और आने वाले दिनों में Xiaomi भारत में नंबर एक कंपनी बननेवाली है|  

SAMSUNG का नंबर 1 खतरे में है

एक जमाना था जब भारतीय फ़ोन बाजार में सिर्फ Samsung के ही फ़ोन चला करते थे| भारतीय फ़ोन बाजार पुरी तरह से सैमसंग के कब्जे में था| पर चीनी कंपनीयोके भारत में आनेसे यह समीकरण बदल गया| हालाकी 2019 में अभी भी Samsung कंपनी का हिस्सा 29 प्रतिशत(%) है|

Advertisement

फ़िलहाल तो सैमसंग नंबर 1 position पे है, पर जिस तरह के specification वाले फ़ोन, जिस तरह की कीमत में सैमसंग launch कर रहा है उससे जल्दी ही वो भारतीय फ़ोन बाजार में अपनी पकड़ खो रहा है|

अब वो दिन दूर नही जब सैमसंग को भारतीय बाजार में अपनी position बनाये रखनेके लिए संघर्ष करना पड़ेगा|  

भारतीय फ़ोन बाजार में मोबाइल कंपनीया अपनी जगह बनाने के लिए जिस तरह का संघर्ष कर रही है उसका फ़ायदा तो आखिर आम आदमी को ही होगा| इस संघर्ष का ही नतीजा है की बेहतर specification वाले फ़ोन ग्राहकों को सस्ते में मिल रहे है|

आखिरकार ग्राहक(consumer) ही बाजार(market) का राजा होता है जिसमे Apple जैसी बलवान कंपनी को भी असफलता का मुह दीखाने की ताकत होती है| 

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here